Breaking News



https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

भारत में पिछले 24 घंटे में कोविड 19 नोवेल कोरोना वाइरस के लगभग  15400 नए केस पाये गये हैं

Healthcare

भारत में पिछले 24 घंटे में कोविड 19 नोवेल कोरोना वाइरस के लगभग  15400 नए केस पाये गये हैं एवं लगभग 306 लोगों की कोरोना वाइरस से मृत्यु हुई है। यह भारत में पैर पसारते हुए कोरोना वाइरस की भयावह स्थिति को दिखाता है जिस पर देश की सरकारों/जनता को भी और गंभीर/जिम्मेदार/सतर्क होने की अतिआवश्यकता है।   

उत्तर प्रदेश के औरैया में ट्रक एवं लौरी की टक्कर में 24 विस्थापन कर रहे श्रमिकों की मौत

Social

उत्तर प्रदेश के औरैया में दिल्ली से आ रही एक डीसीएम वैन ट्रेलर ट्रक से टकरा गयी जिसमे 24 प्रवासियों की मौत हुई, व 20 से अधिक लोग घायल भी हुए। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर बचाव अभियान शुरू किया , पुलिस अनुसार प्रवासी श्रमिक - बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के मूल निवासी थे, वे राजस्थान से आ रहे थे, जिस ट्रक में वे यात्रा कर रहे थे उसमे लगभग 50 फंसे मजदूर अपने घर जा रहे थे। 

औरैया के सीएमओ अर्चना जी के अनुसार इस घटना में 22 लोग घायल हुए, 15 मजदूरों को सैफई पीजीआई रेफर किया गया है। औरैया के जिला मजिस्ट्रेट अभिषेक सिंह ने कहा, "यह घटना सुबह सबेरे लगभग 3:30 बजे हुई। 24 लोगों की मौत हुई व लगभग 20 लोग घायल हो गए। इनमें अधिकतर लोग बिहार, झारखंड और पश्चिम बंगाल के हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस घटना और मजदूरों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की।

कौन कहता है कविता: कवि उर्वशी (लखनऊ)

Religious

कौन कहता है....

कौन कहता है महाभारत खत्म हो गई,

द्रोपदी की साड़ी आज भी, 

सड़कों पे है जल रही

ज़ालिम है ये जमाना,

ये तो पहले से पता था,

मगर इस तरह नोचेंगे उसे,

ये किसको पता था

सड़कों पे कितनो की ही इज्जत, 

ऎसे तार तार होती है

कितनी ही द्रोपदी ऐसे शर्मसार होती है

चुभती है सुइयों सी नज़रे बाहर निकलने पर,

डर लगता है किसी से भी मदद मांगने पर

किससे कहे ये बाते,

सब हैवान हो चले,

नोचने जिस्म द्रोपदी का,

देखो सब तैयार है खड़े।।

#हैदराबाद रेप केस

कौन कहता है, कविता: कवि उर्वशी (लखनऊ)

पश्चिम बंगाल: टीएमसी नेता ने की बहनों की पिटाई

Social

पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले में दो बहनों की उनके निजी जमीन पर गांव की सड़क बनाने का विरोध करने पर पिटाई की गई है। उनकी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के पंचायत सदस्य और सहयोगियों ने बांधा, घसीटा और पिटाई की।

29 साल की स्मृति कना दास पीड़िता ने रविवार को पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई है।अमल सरकार जो की टीएमसी के पंचायत सदस्य हैं को वीडियो वायरल होने के बाद निलंबित कर दिया है। वीडियो में वह बंधी हुई महिलाओं की पिटाई करते हुए दिख रहे हैं। वहीं भाजपा ने दावा किया है कि महिला उसकी पार्टी की समर्थक है।

गंगारामपुर पुलिस थाने के प्रभारी निरीक्षक पुरनेंदु कुमार कुंडू ने कहा, 'हमें शिकायत मिली है और जांच जारी है।' अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। दास ने कहा है कि जैसे ही उसने अपने परिवार से संबंधित जमीन पर सड़क बनाने का विरोध किया सरकार और चार अन्य लोगों ने लोहे की रॉड से उसपर हमला किया।

दास ने कहा, 'उन्होंने लोहे की रॉड से मेरे सिर पर मारने की कोशिश की। मैं किसी तरह बच गयी , मेरे नीचे गिरने पर उन्होंने रस्सी से मेरे पैर बांध दिए और मुझे लगभग 30 फीट तक घसीटते रहे। मेरी पिटाई की गई, मेरे शील को भंग किया गया और मुझे धमकी दी गई।' 

शिकायत के अनुसार जब स्मृति कना दास की पिटाई की जा रही थी तब उनकी बहन शोमा दास ने विरोध किया और उन्हें बचाने की कोशिश की। लेकिन आरोपी ने शोमा पर हमला किया और उनकी सोने की चेन और मोबाइल छीन लिया। जब वह नीचे गिर गईं तो आरोपी ने उनके भी पैर बांध दिए और सड़क पर घसीटा। उन्हें लात और मुक्के भी मारे गए।

चीन में कोरोना वायरस से 213 की मौत, WHO ने घोषित की इंटरनेशनल इमर्जेंसी

Healthcare

कोरोना वायरस से अब तक चीन में 213 लोगों की जान जा चुकी है। इसे देखते हुए देखते विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इंटरनेशनल इमर्जेंसी घोषित कर दी है। हालांकि, केरल में कोरोना वायरस से ग्रस्‍त पाए गए पहले शख्‍स को त्रिशूर जनरल हॉस्पिटल से त्रिशूर मेडिकल कॉलेज के अलग वॉर्ड में शिफ्ट किया गया। वहीं, चीन से भारतीय लोगों को निकालने के लिए आज वुहान के लिए एयर इंडिया का विमान रवाना होगा।

चीन में कोरोना वायरस से मरने वाले लोगों की संख्‍या प्रतिदिन बढ़ रही है। वहां अब तक लगभग 8000 लोग इस जानलेवा वायरस की चपेट में आ चुके हैं। यह वायरस बहुत तेजी से बढ़ रहा  है, और यह अभी तक दुनिया के 18 देशों को अपनी गिरफ्त में ले चुका है। इसी के चलते डब्‍ल्‍यूएचओ ने इसे अंतरराष्‍ट्रीय आपदा घोषित कर दिया है। सबसे बड़ी परेशानी यह है कि अभी तक इस वायरस का इलाज नहीं तलाशा गया है। बता दें कि चीन के वुहान से कोरोना वायरस फैला है। भारत में कोरोना वायरस का पहला मामला केरल में सामने आया है।

डब्‍ल्‍यूएचओ ने गुरुवार को कोरोना वायरस को अंतरराष्‍ट्रीय आपदा घोषित कर दिया। इसका मकसद वायरस से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समन्वय बैठाया जा सके। अब भारत समेत कई देश इस वायरस का इलाज मिलकर ढूंढ सकेंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुखिया टेड्रोस ऐडनम ने बताया है कि सबसे बड़ी चिंता ऐसे देशों में वायरस को फैलने से रोकने की है जहां स्वास्थ्य व्यवस्थाएं कमजोर हैं। अंतरराष्‍ट्रीय आपदा घोषित होने के बाद अब इन देशों को कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अंतरराष्‍ट्रीय मदद मिल सकेगी।

इसी कारण से दुनिया भर के देशों और उनकी जनता को जलवायु परिवर्तन पर, प्रदूषण न करने , और पर्यावरण व अपने गृह को बचाने और स्वस्थ रखने की जरुरत है , क्योंकि कहीं न कहीं बिना मौसम बरसात, आंधी, तूफ़ान , शैलाब , अत्यधिक गर्मी, अत्याधिक सर्दी , सूखा पड़ना , बाढ़ आना , अत्यधिक बर्फ़बारी , चक्रवात , सुनामी आदि आपदाएं या डेंगू , मलेरिया , टाइफाइड , कैंसर , स्वाइन फ्लू, और अब ये कोरोना वायरस जैसी महामारी प्राकृतिक जलवायु परिवर्तन या इंसान द्वारा किये जा रहे जलवायु परिवर्तन की वजह से ही आती हैं/फ़ैल रही है। 

 

#HowToProtectFromCoronaVirusWHOguidelines

Healthcare

WHO’s standard recommendations for the general public to reduce exposure to and transmission of a range of illnesses are as follows, which include hand and respiratory hygiene, and safe food practices:

  • Frequently clean hands by using alcohol-based hand rub or soap and water;
  • When coughing and sneezing cover mouth and nose with flexed elbow or tissue – throw tissue away immediately and wash hands;
  • Avoid close contact with anyone who has fever and cough;
  • If you have fever, cough and difficulty breathing seek medical care early and share previous travel history with your health care provider;
  • When visiting live markets in areas currently experiencing cases of novel coronavirus, avoid direct unprotected contact with live animals and surfaces in contact with animals;
  • The consumption of raw or undercooked animal products should be avoided. Raw meat, milk or animal organs should be handled with care, to avoid cross-contamination with uncooked foods, as per good food safety practices.

गोंडा:उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में 2 नाबालिग सगी बहनों के साथ सामूहिक दुष्कर्म

Social

गोंडा. उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में 2 नाबालिग सगी बहनों के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला उजागर हुआ है , घटना के बाद युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है और पीड़ित बहनों की मेडिकल जांच कराई जा रही है.

गोंडा में देहात कोतवाली क्षेत्र का ये पूरा मामला है, आरोप यह है कि गांव में दो सगी बहनों के साथ गांव के ही दो युवकों ने सामूहिक बलात्कार की घटना को अंजाम दिया. जब लड़कियों ने अपने घर में पुरे मामले की जानकारी दी तो परिजनों ने देहात कोतवाली में शिकायत दर्ज कराइ . पुलिस ने पीड़ित परिजनों की तहरीर पर 376 और पॉक्सो के तहत केस दर्ज कर लिया है. घटना के बाद गांव में आक्रोश व्याप्त है. ग्रामीणों ने मामले में एक आरोपी को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया. इसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए दूसरे आरोपी को भी दबोच लिया है. दोनों पीड़ित लड़कियों की मेडिकल जांच के लिए अस्पताल भेज दिया गया है.

कितना दुखदाई है की हमारे देश भारत में हर १४ मिनट में एक बलात्कार होता है और इसे रोकने/कम करने में सरकार और समाज के लोग विफल हैं क्योंकि उनका ध्यान इस बुराई पर है ही नहीं और ना ही इसे गंभीरता से लिया जाता है , लगता है सरकारों/समाज के लोगों को जैसे इस बीमारी की आदत हो चुकी है। 

बलात्कार शुरू होता है महिला का सम्मान ना करने से, जो की समाज के पुरुष बात -बात में महिला (माँ /बहन /बेटी ) के नाम पर भद्दी गलियां देकर करते हैं। अगर हमे बलात्कार जैसी समाज से ख़त्म करना है तो सबसे पहले महिला का समाज सीखना/करना होगा। 

समाज की सभी महिलाओं को अपने अपने घरों में और बहार भी पुरुषों को महिला के नाम पर बात बात में भद्दी गालयों का उपयोग करके महिलाओं का अपमान करने से रोकना चाहिए, और बलात्कार जैसी बुराई को ख़त्म/कम करने में अपना सहयोग देना चाहिए. 

समाज की महिलाओं को अपने घरों में पुरुषों को प्यार से या अपनी ताकत से समझाना होगा की अब उनके घरों में या तो वह (महिला) रह सकती है या उनका (महिलाओं) बात बात  होने वाला अपमान। 

एक तरफ तो हम अपनी भारतीय संस्कृति में महिला को माँ/देवी/जननी/प्रकृति का दर्जा देते हैं , वहीँ दूसरी तरफ में हर 14 मिनट में किसी ना किसी महिला बलात्कार हो जाना हमारे लिए बहुत शर्म की बात है , आज देश की सरकार/समाज के लिए अगर सबसे बड़ा कोई विषय काम करने के लिए होना चाहिए तो वह है बलात्कार/कम करना , क्योंकि अगर हमारे घर /समाज की महिलाएं ही सुरक्षित  के सभी विकास कार्य सभी व्यर्थ हैं , हमें कभी सोचकर देखना चाहिए की ईश्वर न करें किसी दिन हमारे घर की किसी महिला के साथ घिनोना अपराध हो उस दिन  हमारे लिए इस पूरी दुनियां की सभी चीजें व्यर्थ हो जाएँगी। 

हम देश की सरकरों से भी प्रार्थना  करते हैं कि समाज के लोगों को महिला का सम्मान करना सिखाने के लिए महिलाओं के नाम पर  भद्दी गलियों के उपयोग को रोकना होगा , और इसे भी एक संगीन अपराध घोषित करना होगा। 

साथ ही साथ हम देश के अलग अलग क्षेत्र  कलाकारों, सिनेमा जगत के लोगों से  प्रार्थना करते हैं कि वे अपनी किसी भी रचना में महिलाओं के नाम पर भद्दी गलियों और उनके अपमान को प्रमोट न करें। 

हमारे भारत महान में लगभग हर 15  मिनट में 1 बलात्कार हो रहा है, प्रतिदिन लगभग 100, प्रति महीना लगभग 3000 , और प्रति वर्ष लगभग 36000 या उससे अधिक बलात्कार । यहाँ तक कि हमारे भारत महान की राजधानी दिल्ली में ही प्रतिदिन लगभग 5 बलात्कार हो रहे हैं। हमारा भारत महान दुनिया भर में महिलाओं के खिलाफ अपराध (बलात्कार, यौन शोषण, छेड़छाड़, महिला तस्करी, जबरदस्ती मजदूरी कराना  , घरेलु हिंसा ) को लेकर शीर्ष पर है , और इस तरह से यह महिलाओं के रहने के लिए दुनिया का सबसे खतरनाक देश बन चुका है।

हमारी सरकारें क्यों सोई हुई हैं? हमेशा बलात्कार हो जाने के बाद ही उस पर कार्यवाही क्यों होती है और  दोषियों को पकड़ा जाता है? बलात्कार होने से पहले उस बलात्कार को रोकने के लिए क्यों काम नहीं होता, क्यों उसे रोका नहीं जाता? अगर पुलिस/आर्मी  बड़े बड़े अपराधियों को जाल बिछाकर पकड़ सकती है , तो क्या जाल बिछाकर महिलाओं को शिकार बनाने वाले अपराधियों को नहीं पकड़ा जा सकता ? कैसे किसी की हिम्मत हो सकती है हमारे घर की महिलाओं को छेड़ने, अपहरण करने, बलात्कार करने, और जलाकर, या फांसी देकर, या पीटकर मार देने की ? क्या अपराधियों के दिमाग में कानून का जरा भी डर नहीं है? जो डर हमारे भीतर अपने घर की महिलाओं को घर से बाहर भेजते हुए होता है वह डर हमारे भीतर नहीं बल्कि अपराधियों के भीतर होना चाहिए।

लेकिन क्या बलात्कार को रोकने/कम करने की जिम्मेदारी सिर्फ सरकार/पुलिस की है? नहीं। बलात्कार को न तो केवल सरकार द्वारा रोका जा सकता है और न ही समाज के नागरिकों द्वारा, इसे केवल दोनों के संयुक्त प्रयासों से रोका जा सकता है । 

हम सभी को अगर समाज में बलात्कार को सचमुच खत्म करना है या कम करना है तो इसके लिए हमें सख्त क़ानून व्यवस्था, और उसका जमीनी स्तर पर अच्छे से लागू और पालन होने की मांग के साथ साथ इसके असली कारण उस  बलात्कारी सोच/विचार पर भी काम करना होगा , उसे ख़त्म/परिवर्तित करना होगा, और यह संभव है केवल यदि हम सभी सरकार,और स्कूलों से मांग करें कि वो बच्चों के पाठयक्रम में यौन शिक्षा (Sex Education ), योग (Yoga जो हमें शारीरिक रूप से स्वस्थ/मजबूत बनाता है) , ध्यान (Meditation जो हमें मानसिक रूप से स्वस्थ/मजबूत बनाता है, हमारे भीतर से सभी नकारात्मक विचारों को ख़त्म /परिवर्तित करके सकरात्मक विचारों को जन्म देता है, और हमारे विचारों में सात्विकता, शुद्धता, और पवित्रता लाता है) , आत्मरक्षा शिक्षा (Self Defence Education जो हमें किसी भी परिस्थिति में हमारी रक्षा करने में सक्षम बनाती है), और सामाजिक/नैतिक शिक्षा (Social/Moral Education जो हमें समाज में किस तरह का अपना व्यवहार, आचरण रखना है , किस तरह अपने से बड़ों से , महिलाओं से, बच्चों से व्यवहार करना है, महिलाओं का सम्मान, माँ बहन के नाम पर भद्दी गलियां ना देना आदि सिखाती है) आदि को शामिल करें, और हमें घर पर भी अपने बच्चों , और परिवार के बाकि सदस्यों को इन सभी शिक्षाओं को ग्रहण करने और पालन करने के लिए बोलें, यहां तक ​​कि जेलों में भी अपराधियों को ऐसी शिक्षा प्रदान करने के लिए बोलें ताकि वे एक अच्छे इंसान के रूप में परिवर्तित हो सकें।

हम सभी को समझना पड़ेगा बलात्कारी कोई पुरुष/महिला नहीं हैं, बलात्कारी एक विचार है जो लगभग हम सभी के भीतर मौजूद है ,और अवसर पाने पर यह बलात्कारी विचार हममें से किसी के भी भीतर भी पैदा हो सकता है और उसके चलते हममें से कोई भी बलात्कार कर सकता है, जिसने समय पर उस बलात्कारी विचार को पहचान लिया और उस पर जीत हांसिल कर ली वो बलात्कारी होने से बच जाता है , और जो ऐसा करने में असमर्थ रहा और उस बलात्कारी विचार को अपने ऊपर हावी होने दिया वो बलात्कारी बन बैठता है।  

देश/समाज के लोगों को ध्यान (मैडिटेशन) अवश्य ही करना चाहिए क्योंकि यह इंसान के भीतर की बुराइओं/बुरे विचारों/नकारात्मक विचारों  खत्म/कम करके  को अच्छाई/अच्छे विचारों/सकारत्मक विचारों/और सात्विकता से भर देता है, जिससे वह हर इंसान/जीव में ईश्वर को देखता  केवल महिला तो क्या  हर इंसान/जीव का भरपूर सम्मान करता है। 

यूपी की सरकारी पॉलीटेक्निक का बुरा हाल,12 को एआईसीटीई का नोटिस

Educational

प्राइवेट पॉलीटेक्निक के बाद अब सरकारी पॉलीटेक्निक का भी बुरा हाल है, बच्चों के साथ खिलवाड़ का खुलासा होने पर एआईसीटीई ने उत्तर प्रदेश,उत्तराखंड और बिहार के 23 सरकारी पॉलीटेक्निक को 2020-21 में प्रवेश न लेने का नोटिस दिया है। चार साल बीतने के बाद भी ज्यादातर पॉलीटेक्निक का परिसर शिफ्ट नहीं हुआ है।पॉलीटेक्निक को गेस्ट फैकल्टी के भरोसे चलाया जा रहा है । सात फरवरी तक अपील का मौका दिया गया है।

पॉलीटेक्निक की पढ़ाई में गुणवत्ता और अन्य अव्यवस्था को दूर करने की कवायद चल रही है। यूपी की 12, उत्तराखंड की 10 और बिहार के एक पॉलीटेक्निक को अव्यवस्था सुधारने का नोटिस मिला है। एआईसीटीई के रीजनल आफिसर डॉ. मनोज तिवारी ने बताया कि गेस्ट फैकल्टी के भरोसे पॉलीटेक्निक नहीं चल सकते हैं। चार साल से ज्यादा दूसरे परिसर में पॉलीटेक्निक नहीं चल सकती हैं। आधे से ज्यादा दूसरे परिसरों में चल रहे हैं।

जहाँ देश में पॉलीटेक्निक और बहुत सारे सरकारी सरकारी स्कूलों, कॉलेजों , विश्वविद्यालयों , और अस्पतालों की ये हालत है वहीँ देश की सरकारों/राजनेताओं/राजनैतिक पार्टियों में मूर्तियां/स्मारक बनाने की होड़ लगी हुई है, आपको बता दें की देश की केंद्र सरकार ने १ साल पहले गुजरात में लगभग 3300 करोड़ रूपये खर्च करके "स्टेचू ऑफ़ यूनिटी" स्वर्गीय श्री सरदार पटेल जी के नाम पर बनाई। 

वहीँ अब महाराष्ट्र की नवनिर्मित (कांग्रेस +शिवसेना) सरकार स्वर्गीय श्री शिवजी महाराज और डॉ. भीमराव आंबेडकर जी के नाम पर 5000 करोड़ में मूर्ति/स्मारक बनाने जा रही है। 

देश की जनता  इन सरकारों/राजनैतिक पार्टियों/राजनेताओं से सवाल जरूर करना चाहिए की क्या उन्होंने आज तक इतने बड़े बजट में देश के भीतर कोई स्कूल /कॉलेज/यूनिवर्सिटी/अस्पताल/या कोई रिसर्च सेंटर बनवाया है? और क्या देश/समाज की जनता का इतना पैसा खर्च करके बनायीं मूर्ति/स्मारक से प्रगति संभव है। 

मिर्जापुर उत्तर प्रदेश: अब इंजिनीर्स पकड़ेंगे गाय-बैल 

मिर्जापुर उत्तर प्रदेश: 29 जनवरी को उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी को गंगा यात्रा के लिए मिर्जापुर जाना था, वहां रास्ते में आवारा गाय-बैल-सांड परेशान करते रहते हैं, इसी वजह से सीएम योगी के काफिले को दिक्कत न हो, इसलिए मिर्जापुर के डीएम ने एक आदेश जारी किया. 

आदेश में कहा गया कि कुल 9 इंजीनियर 8-10 रस्सियां लेकर मुख्यमंत्री की यात्रा वाले रास्ते पर तैनात रहें और अगर कोई आवारा जानवर दिखे तो उन्हें पकड़कर बाँध दें, ताकि सीएम साहब के काफिले को दिक्कत न हो. आदेश सरकारी था, कर्मचारी सरकारी थे ,तो आदेश मानना ही था.

वो मानते भी, लेकिन इंजिनीर्स के असोशिएसन ने पीडब्लयूडी को एक लेटर लिखा और कहा कि इंजीनियर आवारा जानवर पकड़ने के लिए ट्रेंड नहीं हैं, तो अगर जानवरों को पकड़ने के दौरान किसी को चोट लग जाएगी तो जिम्मेदारी उनकी नहीं होगी. 

उनकी बात भी सही थी, वो तो इंजीनियर हैं, सड़कें बनाते हैं, पुल बनाते हैं, घर बनाते हैं, उनके पास जानवर पकड़ने की ट्रेनिंग कहां से होगी. लेकिन सरकारी आदेश था, तो मानना ही था. लेकिन ये रायता भी सोशल मीडिया पर फैल गया. और फिर  डीएम ने इस आदेश को वापस ले लिया.

यूपी: महिला टीचरों को दी गई दुल्हन सजाने की जिम्मेदारी

Educational

उत्तर प्रदेश में अभी तक शिक्षकों की जनगणना और चुनावों जैसे कार्यक्रमों में ड्यूटी की बात हम सुनते आएं हैं लेकिन मंगलवार को होने वाले सामूहिक विवाह में महिला शिक्षकों को दुल्हन को सजाने की जिम्मेदारी दे दी गई. 

सिद्धार्थ नगर: 

उत्तर प्रदेश में अभी तक शिक्षकों की जनगणना और चुनावों जैसे कार्यक्रमों में ड्यूटी की बात हम सुनते आये हैं लेकिन मंगलवार को होने वाले सामूहिक विवाह में महिला शिक्षकों को दुल्हन को सजाने की जिम्मेदारी दी गई, बाद में मामला सुर्ख़ियों में आने के बाद विरोध की भनक लगते ही बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ. सूर्यकांत त्रिपाठी ने बीईओ का आदेश निरस्त कर दिया। पूरा मामला बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीष चन्द्र द्विवेदी के गृह जनपद सिद्धार्थ नगर का है.

सिद्धार्थ नगर जिले के नौगढ़ ब्लाक में मंगलवार को होने वाले मुख्यमंत्री विवाह समारोह में 184 दुल्हनों को सजाने की जिम्मेदारी 20 महिला शिक्षकों दी गई थी. यहां के खंड शिक्षा अधिकारी ध्रुव प्रसाद ने एक तुगलकी फरमान जारी करते हुए तेतरी बजार में होने वाले सामूहिक विवाह में सजाने की जिम्मेदारी सौंप दी.

कितने दुःख की बात है कि जहाँ हमारे देश में विद्यार्थियों/शिक्षकों का अनुपात 24:1  है , मतलब प्रत्येक 24 विद्यार्थियों पर केवल 1 शिक्षक है जो की एशिया क्षेत्र में 8 देशों के रिसर्च में सबसे बुरा है , वहीं शिक्षकों को स्कूलों में शिक्षा देने और शिक्षा की गुणवत्ता सुधरने के बजाये कभी चुनाव/जनगणना/पोलियो/टीकाकरण में और अब सामूहिक विवाह में दुलहनों को सजाने में उनकी ड्यूटी लगाई जाती है , सरकारों/नेताओं को इस पर गंभीरता से ध्यान देने की। 

अब दिल्ली में भी कोरोनावायरस की आहट!

Healthcare

नई दिल्ली.  चीन के कोरोनावायरस ने अमेरिका के साथ साथ एक दर्जन देशों में भी अपनी आहट कर दी है। 

दुनिया के सभी देश इसका इलाज करने की कोशिश में लगे हैं. भारत में भी कोरोनावायरस के कुछ संदिग्ध मामले सामने आए हैं. राजधानी दिल्ली में तीन मामले सामने आने की खबर है. कोरोनावायरस के तीन संदिग्ध मामले में राजधानी दिल्ली स्थित राम मनोहर लोहिया अस्पताल  में सामने आए हैं. इन तीन लोगों के सैंपल जांच के लिए नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल को भेज दिए गए हैं.

आरएमएल अस्पताल में चिकित्सा अधीक्षक डॉ. मीनाक्षी भारद्वाज ने बताया कि तीनों लोगों की उम्र 24 से 48 साल के बीच है. उन्हें सोमवार को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था और उनके नमूनों को परीक्षण के लिए भेजा गया है. इनमें से दो व्यक्ति दिल्ली के निवासी हैं और एक राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र से है.

इससे पहले रविवार को जयपुर में कोरानावायरस का एक संदिग्ध मरीज सामने आया है. बताया जा रहा है कि जयपुर के सरकारी अस्पताल में भर्ती कोरोनावायरस से पीड़ित लड़का चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहा था. भारत आने के बाद उसमें कोरोनावायरस के लक्षण देखने को मिले, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. वहीं चीन में कोरोनावायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 106 हो गई है.

यूपी: घर में घुसकर बुजुर्ग की गोली मारकर हत्या

मुजफ्फरनगर जनपद में शहर कोतवाली के मोहल्ला खालापार में सोमवार देर रात करीब 60 साल के सूफी अब्दुल सलाम पुत्र अब्दुल वहाब की घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी गई।बताया जा रहा है कि एक युवक ने घर के बाहरी बैठक में घुसकर बुजुर्ग पर गोलियां बरसाईं। एक गोली उनकी गर्दन में लगी और मौके पर ही मौत हो गई। बुजुर्ग घर के बाहर बनी बैठक में ताबीज-गंडे और देशी दवाई देने का काम करता था। देर रात तक पीड़ित परिजनों ने कोई तहरीर नहीं दी थी। पुलिस आरोपी की तलाश कर रही है।

कोरोना वायरस: यूपी और बिहार में भी आहट, पांच और संदिग्ध संक्रमित मिले

Healthcare

चीन में फैल रहा जानलेवा 2019-एनसीओवी कोरोना वायरस से अब तक 80 मौतें हो चुकी है। 11 देशों में दशहत फैला चुके इस वायरस की आहट उत्तरप्रदेश और बिहार तक भी पहुंच गई है। बिहार में चार और उत्तर प्रदेश में एक संदिग्ध संक्रमित मिला है। इससे पहले केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और राजस्थान में पहले ही संदिग्ध संक्रमित मिल चुके हैं। 

बिहार और उत्तर प्रदेश में नए मामले सामने पर केंद्र सरकार की चिंता बढ़ गई है। सभी राज्यों में अतिरिक्त सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट सचिव ने सभी मंत्रालयों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। हवाईअड्डों पर जांच के साथ अब जहाजरानी मंत्रालय उन अंतरराष्ट्रीय बंदरगाहों पर लोगों की जांच आरंभ करेगा जहां चीन से लोग आते हैं। 

चीन में बिहार के 800 लोग, चार संदिग्ध संक्रमित  

बिहार से कोरोना वायरस के चार संदिग्ध मरीज मिले हैं। इनमें चीन से 22 जनवरी को लौटी सारण जिले की मेडिकल छात्रा भी शामिल है। चीन के तिआन्जिन प्रांत से छपरा आई शोध छात्रा को पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल के एकांत वार्ड में भर्ती कराया गया है। इसके अलावा दो संदिग्ध सीतामढ़ी और एक मुजफ्फरपुर का निवासी है। मुजफ्फरपुर निवासी संदिग्ध का चीन से लौटने के बाद दिल्ली में इलाज चल रहा है। वहीं, सीतामढ़ी निवासी एक अन्य मरीज अभी चीन में ही है। चीन में शिक्षा, रोजगार व अन्य क्षेत्रों से जुड़े बिहार के करीब 800 लोग रह रहे हैं। इनमें करीब छह सौ मेडिकल के छात्र शामिल हैं।

यूपी के महराजगंज में चीन से लौटा छात्र भर्ती  

चीन से महराजगंज के एक छात्र की घर वापसी के बाद शनिवार देर रात अधिकारी जांच के लिए उसे जिला अस्पताल ले आए। उसे एकांत वार्ड में निगरानी में रखा गया है। लक्ष्मीपुर निवासी आसिफ चीन में मेडिकल की पढ़ाई कर रहा है। वह परीक्षा के बाद एक महीने की छुट्टी पर 14 जनवरी को घर आया था। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि संक्रमण की स्थिति जांच के बाद ही साफ होगी।   

उत्तराखंड का स्वास्थ्य महकमा अलर्ट पर 

उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को प्रदेश के सभी जिलों में मेडिकल टीम भेज दी है जो खासतौर पर चीन और नेपाल से आने वाले लोगों की स्क्रीनिंग करेगी। प्रदेश की महानिदेशक (स्वास्थ्य) अमिता उप्रेती ने कहा, चीन और नेपाल की सीमा से सटे जिलों चंपावत, चमोली और पिथौरागढ़ में स्क्रीनिंग शुरू कर दी गई है।

उत्तर प्रदेश: संभल में 2 बहनों का गैंगरेप। 

Social

उत्तर प्रदेश: संभल में 2 बहनों का गैंगरेप। 

उत्तर प्रदेश के संभल जिले के बेहजोई में रविवार को कुछ लोगों ने जो पुलिस की वर्दी में आये थे ने किया दो बहनों के साथ हुआ सामूहिक बलात्कार।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, पुरुष कार में आए और बहनों के घर में घुस गए। उन्होंने अन्य परिवार के सदस्यों को शराब के नशे में व्यवहार करने के लिए दोषी ठहराया और फिर बहनों को उनके साथ पुलिस स्टेशन में जाने के लिए कहा।

पुरुष बहनों को पास के जंगल में एक अलग-थलग इलाके में ले गए और बारी-बारी से उनके साथ बलात्कार किया। वे अपराध करने के बाद चले गए।

बहनें कुछ समय के बाद घर लौटीं और अपने परिवार के लोगों को इसकी सूचना दी।

परिवार तब बेहजोई पुलिस स्टेशन गया, जहां उन्हें बताया गया कि उनके घर पर कोई कांस्टेबल नहीं भेजा गया था।

शिकायत दर्ज की गई है और आगे की जांच चल रही है। लड़कियों को मेडिकल जांच के लिए भेजा गया है।

उत्तर प्रदेश:झाड़ियों में ले जाकर 6 साल की मासूम से रेप

Social

औरैया. उत्तर प्रदेश के फफूंद थाना क्षेत्र के कस्बे में 6 साल की मासूम बच्ची के साथ बलात्कार हुआ है। पुरे इलाके में सनसनी है, और अज्ञात आरोपी फरार है। पुलिस से पीड़ित बच्ची को मेडिकल के लिए जिला अस्पताल में भेजा है और  की तलाश जारी है। 

बच्ची अपने पड़ोस के बच्चे के साथ लकड़ी बीनने के लिए गई हुई थी. इसी दौरान  एक अज्ञात युवक ने उसे लकड़ी दिलाने का बहाना देकर झाड़ियों में ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। बच्ची के साथ गए बच्चे से आकर घर पर परिजनों को सूचित किया। बच्चे ने बताया कि एक अज्ञात युवक मासूम को कहीं ले गया है. जिसकी सूचना पाकर मासूम के परिजन घटनास्थल पर पहुंचे.

परिजनों ने देखा कि बच्ची झाड़ियों में बेहोशी की हालत में पड़ी है. होश में आने के बाद बच्ची ने रो-रोकर पूरी घटना बताई . जिसके शुरू कर दी. फिलहाल युवक अभी पुलिस की गिरफ्त से फरार है. पुलिस ने पीड़ित बच्ची को मेडिकल के लिए जिला अस्पताल में भेज दिया है और आरोपी युवक की तलाशी के लिए दबिश दी जा रही है. पुलिस के अधिकारियों का कहना है कि घटना में शामिल जो भी युवक है उसकी छानबीन करके जल्द ही गिरफ्तारी की जाएगी.

https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

https://stalwartshop.com: India's new online shopping address.

3500

Visitors

390

News Post